Free Astrology

webdunia 1

Advertisements

22 OCTOBER 2015 (THURSDAY) PANCHANG

                             AAJ KA HINDU PANCHANG 

Year: Manmatha (1937)

Ayanam: Dakshinayana

Ritu: Sharad

Week: Thursday

Month: Aashvayuja

Paksha: Shukla Paksha

Tithi: Navami 11:55 am

Nakshatra: Shravana 1:30 pm

Yoga: Shuula 4:54 pm

Karana: Kaulava 11:55 am, Taitila 11:00 pm

Varjya: 5:11 pm – 6:44 pm

Durmuhurth: 10:03 am – 10:52 am, 2:42 pm – 3:29 pm

Rahukal: 1:30 pm – 2:56 pm

Yamaganda: 6:08 am – 7:42 am

Amritakaal: 2:13 am+ – 3:45 am+

Gulika: 9:08 am – 10:31 am

Sunrise: 6:11 am

Sunset: 5:49 pm

Solar Zodiac: Tula

Lunar Zodiac: Makara

Astrology Support

जाने पितृ पक्ष पूजा विधि

पितृ पक्ष 2015 : अपने पितरों को श्रद्धापूर्वक तर्पण और श्राद्ध देने का पर्व और समय काल “पितृ पक्ष” कहलाता है। यह अश्विन माह में किया जाता है। इस वर्ष पितृ पक्ष 27 सितंबर से 12 अक्टूबर 2015 तक रहेगा।

पितृ पक्ष की अहम तारीखें (Dates of Pitru Paksha Shraddh in 2015): पूर्णिमा और अमावस्या के दिन पितृपक्ष और पिण्डदान का बहुत महत्व माना गया है। इस वर्ष 12 अक्टूबर 2015 को सर्वपितर विसर्जन किया जाएगा। पितृ पक्ष श्राद्ध की पूर्ण जानकारी के लिए क्लिक करें: Pitru Paksha Shraddha Dates 2015

कैसे करें पिण्ड दान? (Pitru Paksha Shraddh Pooja Vidhi in Hindi): धार्मिक मान्यतानुसार आश्विन मास के कृष्णपक्ष में पितरों (अर्थात मृत्यु को प्राप्त कर चुके पूर्वजों) के नाम पर तर्पण व पिण्ड दान देने से पितरों को शांति मिलती है और वह जातक को सुखी रहने का आशीर्वाद देते हैं। पिण्ड दान और श्राद्ध से जुड़ी विशेष बातें:
* इस दिन ब्राह्मण व पंडितों को दान देना चाहिए और पशु-पक्षियों (विशेषकर गाय, कुत्ते या कौवे) को भोजन कराना चाहिए।
* श्राद्ध में ब्राह्मणों को भोजन कराना सबसे अहम माना जाता है। श्राद्ध के एक दिन पूर्व ब्राह्मणों को निमंत्रण भेजना चाहिए।
* गंगा के तटों पर श्राद्ध करना बेहद शुभ माना जाता है। –

More Detail Visit now – astrologysupport.com