17 April 2017 Hindu Panchang – Astrologysupport.com

Year: Hevilambi (1939) Today Panchang, Daily Panchang

Ayanam: Uttarayana

Ritu: Vasanta

Week: Monday

Month: Chaitra

Paksha: Krishna Paksha

Tithi: Shashthi 12:36 am+

Nakshatra: Mula 7:32 pm

Yoga: Parigha 12:46 pm

Karana: Garaja 11:27 am, Vanija 12:36 am+

Varjya: 5:45 pm – 7:32 pm

Durmuhurth: 12:40 pm – 1:30 pm, 3:11 pm – 4:01 pm

Rahukal: 7:33 am – 9:07 am

Yamaganda: 10:41 am – 12:15 pm

Amritakaal: 12:22 pm – 2:10 pm

Gulika: 1:49 pm – 3:23 pm

Sunrise: 5:59 am

Sunset: 6:31 pm

Solar Zodiac: Mesha

Lunar Zodiac: Dhanus

Astrology Support
Mobile No:- +91 7891464004 , 8875270809
web : www.astrologysupport.com
Email Id :- help.astrologer@gmail.com

15 APRIL 2017 HINDU PANCHANG – Astrologysupport.com

Year: Hevilambi (1939) Today Panchang, Daily Panchang

Ayanam: Uttarayana

Ritu: Vasanta

Week: Saturday

Month: Chaitra

Paksha: Krishna Paksha

Tithi: Chaturthi 7:48 pm

Nakshatra: Anuraadha 1:40 pm

Yoga: Vyatipata 10:57 am

Karana: Bava 6:35 am, Balava 7:48 pm

Varjya: 7:57 pm – 9:45 pm

Durmuhurth: 6:01 am – 6:51 am, 6:51 am – 7:41 am

Rahukal: 9:08 am – 10:42 am

Yamaganda: 1:49 pm – 3:23 pm

Amritakaal: Nil

Gulika: 6:01 am – 7:34 am

Sunrise: 6:01 am

Sunset: 6:31 pm

Solar Zodiac: Mesha

Lunar Zodiac: Vrishchika

Astrology Support
Mobile No:- +91 7891464004 , 8875270809
web : www.astrologysupport.com
Email Id :- help.astrologer@gmail.com

14 April 2017 Hindu Panchang – Astrologysupport.com

Year: Hevilambi (1939) Today Panchang, Daily Panchang

Ayanam: Uttarayana

Ritu: Vasanta

Week: Friday

Month: Chaitra

Paksha: Krishna Paksha

Tithi: Tritiiya 5:23 pm

Nakshatra: Vishaakha 10:46 am

Yoga: Siddhi 10:07 am

Karana: Vishti/Bhadra 5:23 pm, Bava Full Night

Varjya: 3:15 pm – 5:03 pm

Durmuhurth: 8:31 am – 9:21 am, 12:41 pm – 1:31 pm

Rahukal: 10:42 am – 12:16 pm

Yamaganda: 3:23 pm – 4:57 pm

Amritakaal: 2:01 am+ – 3:48 am+

Gulika: 7:35 am – 9:09 am

Sunrise: 6:01 am

Sunset: 6:30 pm

Solar Zodiac: Mesha 2:07 am

Lunar Zodiac: Vrishchika 4:05 am

Astrology Support
Mobile No:- +91 7891464004 , 8875270809
web : www.astrologysupport.com
Email Id :- help.astrologer@gmail.com

12 APRIL 2017 HINDU PANCHANG – ASTROLOGYSUPPORT.COM

Year: Hevilambi (1939) Today Panchang, Daily Panchang

Ayanam: Uttarayana

Ritu: Vasanta

Week: Wednesday

Month: Chaitra

Paksha: Krishna Paksha

Tithi: Prathama 1:14 pm

Nakshatra: Svaati Full Night

Yoga: Harshana 9:00 am

Karana: Kaulava 1:14 pm, Taitila 2:10 am+

Varjya: 11:51 am – 1:37 pm

Durmuhurth: 11:52 am – 12:41 pm

Rahukal: 12:16 pm – 1:50 pm

Yamaganda: 7:36 am – 9:10 am

Amritakaal: 10:24 pm – 12:10 am+

Gulika: 10:43 am – 12:16 pm

Sunrise: 6:03 am

Sunset: 6:30 pm

Solar Zodiac: Mina

Lunar Zodiac: Tula

 

Astrology Support
Mobile No:- +91 7891464004 , 8875270809
web : www.astrologysupport.com
Email Id :- help.astrologer@gmail.com

11 April 2017 Hindu Panchang – Astrologysupport.com

Year: Hevilambi (1939) Today Panchang, Daily Panchang

Ayanam: Uttarayana

Ritu: Vasanta

Week: Tuesday

Month: Chaitra

Paksha: Shukla Paksha

Tithi: Purnima 11:38 am

Nakshatra: Chitra 5:41 am+

Yoga: Vyaghata 8:48 am

Karana: Bava 11:38 am, Balava 12:23 am+

Varjya: 12:19 pm – 2:03 pm

Durmuhurth: 8:33 am – 9:23 am, 11:07 pm – 11:53 pm

Rahukal: 3:23 pm – 4:57 pm

Yamaganda: 9:10 am – 10:43 am

Amritakaal: 10:44 pm – 12:29 am+

Gulika: 12:17 pm – 1:50 pm

Sunrise: 6:04 am

Sunset: 6:30 pm

Solar Zodiac: Mina

Lunar Zodiac: Tula 4:37 pm

Astrology Support
Mobile No:- +91 7891464004 , 8875270809
web : www.astrologysupport.com
Email Id :- help.astrologer@gmail.com

10 April 2017 Hindu Panchang – Astrologysupport.com

Year: Hevilambi (1939)

Ayanam: Uttarayana

Ritu: Vasanta

Week: Monday

Month: Chaitra

Paksha: Shukla Paksha

Tithi: Chaturdashi 10:22 am

Nakshatra: Hasta 3:37 am+

Yoga: Dhruva 8:54 am

Karana: Vanija 10:22 am, Vishti/Bhadra 10:57 pm

Varjya: 10:54 am – 12:37 pm

Durmuhurth: 12:42 pm – 1:32 pm, 3:11 pm – 4:01 pm

Rahukal: 7:38 am – 9:11 am

Yamaganda: 10:44 am – 12:17 pm

Amritakaal: 9:11 pm – 10:54 pm

Gulika: 1:50 pm – 3:23 pm

Sunrise: 6:04 am

Sunset: 6:30 pm

Solar Zodiac: Mina

Lunar Zodiac: Kanya

More update 

eduation-and-travel

impress-girl

8 APRIL 2017 HINDU PANCHANG – ASTROLOGYSUPPORT.COM

Year: Hevilambi (1939) Today Panchang, Daily Panchang

Ayanam: Uttarayana

Ritu: Vasanta

Week: Saturday

Month: Chaitra

Paksha: Shukla Paksha

Tithi: Dvadashi 9:00 am

Nakshatra: P.Phalguni 12:32 am+

Yoga: Ganda 9:57 am

Karana: Balava 9:00 am, Kaulava 9:12 pm

Varjya: 7:53 am – 9:33 am

Durmuhurth: 6:06 am – 6:55 am, 6:55 am – 7:45 am

Rahukal: 9:12 am – 10:45 am

Yamaganda: 1:50 pm – 3:23 pm

Amritakaal: 5:53 pm – 7:33 pm

Gulika: 6:06 am – 7:39 am

Sunrise: 6:06 am

Sunset: 6:29 pm

Solar Zodiac: Mina

Lunar Zodiac: Simha

 

7 April 2017 Hindu Panchang – astrologysupport.com

Aaj ka hindu panchang

Year: Hevilambi (1939) Today Panchang, Daily Panchang

Ayanam: Uttarayana

Ritu: Vasanta

Week: Friday

Month: Chaitra

Paksha: Shukla Paksha

Tithi: Ekadashi 8:55 am

Nakshatra: Magha 11:34 pm

Yoga: Shuula 10:56 am

Karana: Vishti/Bhadra 8:55 am, Bava 8:54 pm

Varjya: 11:17 am – 12:55 pm

Durmuhurth: 8:35 am – 9:25 am, 12:43 pm – 1:32 pm

Rahukal: 10:45 am – 12:18 pm

Yamaganda: 3:23 pm – 4:56 pm

Amritakaal: 9:06 pm – 10:45 pm

Gulika: 7:39 am – 9:12 am

Sunrise: 6:07 am

Sunset: 6:29 pm

Solar Zodiac: Mina Lunar

Zodiac: Simha

आप के प्रेम जीवन से जुड़ी हर समस्या का समाधान है यहाँ – www.astrologysupport.com

अगर आपने सच्चा प्यार किया है तो क्या आप जानना चाहते है की आपको आपका सच्चा प्यार कब मिलेगा? क्या आप का साथी आप का हमसफ़र होगा या नहीं ? क्या आप इस रिस्ते को आगे बड़ा पायगे या नहीं ? हम आप के इन सब सवालों का सही जवाब दे सकते हैं ताकि आपका प्रेम जीवन अच्छा रहे और आप कुछ रहो.

आप अपने समस्या का समाधान भी यहां पर पा सकते हैं

बस आपको हमारी साइट पर जाके अपनी समस्या बतानी है और अपनी डिटेल देनी हैं।
आप हमसे संपर्क भी कर सकते हैं वो भी बिना किसी शुल्क के।

अभी कॉल करे +91 8875270809 

website : www.astrologysupport.com

Email : help.astrologer@gmail.com

नवरात्र के नौवें दिन ऐसे करें पूजा

ऐसे करें पूजा
माता के नौवें रूप सिद्धिदात्री की भी पूजा मां के अन्‍य रूपों की तरह ही की जाती है, लेकिन इनकी पूजा में नवाह्न प्रसाद, नवरस युक्त भोजन, नौ किस्म के फूल और नौ प्रकार के फल अर्पित करने चाहिए. पूजा में सबसे पहले कलश और उसमें मौजूद देवी देवताओं की पूजा करें. इसके बाद माता के मंत्र का जाप करें.

मां सिद्धिदात्री का मंत्र
सिद्धगन्धर्वयक्षाद्यैरसुरैरमरैरपि।
सेव्यमाना सदा भूयात् सिद्धिदा सिद्धिदायिनी।।
नवमी के दिन नौ कन्‍याओं को कराएं भोजन
नवमी के दिन मां सिद्धिदात्री की पूजा के बाद नौ कन्‍याओं को भोजन कराना चाहिए. कहा जाता है कि छोटी कन्‍याओं में मां का वास होता है, इसलिए नवमी के दिन उनकी पूजा की जाती है और भोजन कराया जाता है.

एक दिन है अष्‍टमी और नवमी तिथि
चैत्र नवरात्र की अष्‍टमी और नवमी तिथि एक दिन यानि 4 अप्रैल को है. सुबह 10:10 बजे अष्‍टमी तिथि के खत्‍म होने के बाद नवमी तिथि आरंभ हो जाएगी. दोनों तिथियां एक साथ होने से मां के आठवें और नौवें स्‍वरूप की पूजा भी एक साथ ही किया जाना चाहिए. इसके साथ ही भगवना श्रीराम की जन्‍मतिथि भी इसी दिन है, तो इसके साथ राम नवमी भी मनाई जाएगी.

online vashikaran specialist astrologer – ClICK HERE
husband wife problem solution – ClICK HERE
online love back problem solution – ClICK HERE
online love back specialist astrologer – ClICK HERE
online love marriage specialist astrologer – ClICK HERE
wazifa for love back solution – ClICK HERE
wazifa for love marriage solution – ClICK HERE
vashikaran mantra for love marriage – ClICK HERE
vashikaran mantra for love back – ClICK HERE
black magic specialist astrologer – ClICK HERE
dua for love marriage – ClICK HERE

नवरात्र के नौवें दिन करें मां सिद्धिदात्री की पूजा, हर काम होंगे सिद्ध

मां सिद्धिदात्री नवमी तिथि पर मां को विभिन्न प्रकार के अनाजों का भोग लगाएं जैसे- हलवा, चना-पूरी, खीर और पुए और फिर उसे गरीबों को दान करें. इससे जीवन में हर सुख-शांति मिलती है.

 

नवरात्र के नौवें दिन मां के नौवें स्‍वरूप सिद्धिदात्री की पूजा की जाती है. मां सिद्धिदात्री सभी प्रकार की सिद्धियों की दाती हैं, इसीलिए ये सिद्धिदात्री कहलाती हैं. नवरात्रि के नौवें दिन इनकी पूजा और आराधना की जाती है. कहा जाता है कि मां सिद्धिदात्री की पूजा करने से रूके हुए हर काम पूरे होते हैं और हर काम में सिद्धि मिलती है.

 

online vashikaran specialist astrologer – ClICK HERE
husband wife problem solution – ClICK HERE
online love back problem solution – ClICK HERE
online love back specialist astrologer – ClICK HERE
online love marriage specialist astrologer – ClICK HERE
wazifa for love back solution – ClICK HERE
wazifa for love marriage solution – ClICK HERE
vashikaran mantra for love marriage – ClICK HERE
vashikaran mantra for love back – ClICK HERE
black magic specialist astrologer – ClICK HERE
dua for love marriage – ClICK HERE

नवरात्रि सातवें दिन करें मां कालरात्रि की पूजा, होगा दुष्टों का नाश

मां कालरात्रि सप्तमी तिथि के दिन भगवती की पूजा में गुड़ का नैवेद्य अर्पित करके ब्राह्मण को दे देना चाहिए. ऐसा करने से व्यक्ति शोकमुक्त होता है.

 

नवरात्रि के सातवें दिन मां दुर्गा के कालरात्रि स्वरूप की उपासना का विधान है। माता का स्वरूप काला होने के कारण इन्हें कालरात्रि कहा जाता है। दैत्यराज रक्तबीज का वध करने के लिए देवी दुर्गा ने अपने तेज से माता कालरात्रि को उत्पन्न किया था। मां का स्वरूप भयानक है लेकिन इनकी पूजा सदैव शुभ फल प्रदान करती है। इसी कारण इनका नाम ‘शुभंकारी’ भी है।

माता कालरात्रि की पूजा करने से व्यक्ति को समस्त सिद्धियों की प्राप्ति होती है। इसके साथ ही दुष्टों का नाश अौर ग्रह बाधाएं दूर हो जाती हैं। इनके उपासकों को अग्नि, जल, जंतु, शत्रु, रात्रि भय आदि कभी नहीं होते। इनकी कृपा से वह सर्वथा भय-मुक्त हो जाता है। माता कालरात्रि का स्वरूप बहुत भयानक है। मां के सिर के बाल बिखरे हुए अौर गले में विद्युत की माला है। माता के त्रिनेत्र हैं। मां की नासिका के श्वास-प्रश्वास से अग्नि की भयंकर ज्वालाएं निकलती रहती हैं। इनका वाहन गर्दभ है। इनके चार हाथ हैं। जिसमें इन्होंने ऊपर उठे हुए दाहिने हाथ की वरमुद्रा से सभी को वर प्रदान करती हैं। दाहिनी तरफ का नीचे वाला हाथ अभयमुद्रा में है। बाईं तरफ के ऊपर वाले हाथ में लोहे का कांटा तथा नीचे वाले हाथ में खड्ग है। नवरात्रि पर इस मंत्र का जाप कर मां कालरात्रि प्रसन्न हो भक्तों पर अपनी कृपा दृष्टि बनाए रखती है।

या देवी सर्वभू‍तेषु माँ कालरात्रि रूपेण संस्थिता। नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।।

कथा के अनुसार दैत्य शुंभ-निशुंभ और रक्तबीज ने तीनों लोकों में हाहाकार मचा रखा था। इससे चिंतित होकर सभी देवतागण भोलेनाथ के पास गए। भगवान शिव जी ने देवी पार्वती से राक्षसों का वध कर अपने भक्तों की रक्षा करने को कहा। भोलेनाथ की बात मानकर पार्वती जी ने दुर्गा का स्वरूप धारण किया और शुंभ-निशुंभ का वध कर दिया। परंतु जैसे ही दुर्गा माता ने रक्तबीज को मारा उसके शरीर से निकले रक्त से लाखों रक्तबीज उत्पन्न हो गए। इसे देख दुर्गा माता ने अपने तेज से कालरात्रि को उत्पन्न किया। इसके बाद जब मां दुर्गा ने रक्तबीज को मारा तो उसके शरीर से निकलने वाले रक्त को कालरात्रि ने अपने मुख में भर लिया और सबका गला काटते हुए रक्तबीज का वध कर दिया।

Astrology Support
Mobile No:- +91 7891464004 , 8875270809
web : www.astrologysupport.com
Email Id :- help.astrologer@gmail.com

नवरात्रि के छठवें दिन मां कात्यायनी की पूजा की जाती है

मां कात्यायनी षष्ठी तिथि के दिन देवी के पूजन में मधु का महत्व बताया गया है. इस दिन प्रसाद में मधु यानि शहद का प्रयोग करना चाहिए. इसके प्रभाव से साधक सुंदर रूप प्राप्त करता है.

विवाह योग के लिए करें मां कात्यायनी की पूजा.

 

 

नवरात्रि की पंचमी तिथि को मां स्कंदमाता की पूजा होती हैं

मां स्कंदमाता पंचमी तिथि के दिन पूजा करके भगवती दुर्गा को केले का भोग लगाना चाहिए और यह प्रसाद ब्राह्मण को दे देना चाहिए. ऐसा करने से मनुष्य की बुद्धि का विकास होता है.

नवरात्रि के तीसरे दिन करें मां चंद्रघंटा की पूजा तो मिलेगी आत्मिक शक्ति

 नवरात्रि के तीसरे दिन मां चंद्रघंटा को दूध और उससे बनी चीजों का भोग लगाएं और और इसी का दान भी करें. ऐसा करने से मां खुश होती हैं और सभी दुखों का नाश करती हैं.

**For more updates follow us!**

social-icon-png           twitter-312464_960_720         linkedin_logo_initials         pinterest-logo         google-plus-circle-icon-png         Youtube.png         rr

नवरात्रि के दूसरे दिन करें मां ब्रह्मचारिणी की आराधना

मां दुर्गा का दूसरा रूप ब्रह्मचारिणी जिसका दिव्य स्वरूप व्यक्ति के भीतर सात्विक वृत्तियों के अभिवर्दन को प्रेरित करता है। मां ब्रह्मचारिणी को सभी विधाओं का ज्ञाता माना जाता है। मां के इस रूप की आराधना से मनचाहे फल की प्राप्ति होती है। तप, त्याग, वैराग्य, सदाचार व संयम जैसे गुणों वृद्धि होती है। ब्रह्मचारिणी का अर्थ तप की चारिणी अर्थात तप का आचरण करने वाली। मां के इस दिव्य स्वरूप का पूजन करने मात्र से ही भक्तों में आलस्य, अंहकार, लोभ, असत्य, स्वार्थपरता व ईष्र्या जैसी दुष्प्रवृत्तियां दूर होती हैं। मां के मंदिरों में नवरात्र के दूसरे दिन माता के ब्रह्मचारिणी रूप की आराधना होगी। मां अपने भक्तों को जीवन की कठिन परिस्थतियों में भी आशा व विश्वास के साथ कर्तव्यपथ पर चलने की दिशा प्रदान करती है। आज के दिन माता का ध्यान ब्रह्मा के उस दिव्य चेतना का बोध कराता है जो हमे पथभ्रष्ट, चारित्रिक पतन व कुलषित जीवन से मुक्ति दिलाते हुए पवित्र जीवन जीने की कला सिखाती है। मां का यह स्वरूप समस्त शक्तियों को एकाग्र कर बुद्धि विवेक व धैर्य के साथ सफलता की राह पर बढऩे की सीख देता है। ब्रहमचारिणी मां दुर्गा को द्वितीय शक्ति स्वरूप है। मां स्वेत वस्त्र पहने दाएं हाथ में अष्टदल की माला और बांए हाथ में कमण्डल लिए हुए सुशोभित है। पैराणिक ग्रंथों के अनुसार यह हिमालय की पुत्री थीं तथा नादर के उपदेश के बाद यह भगवान को पति के रूप में पाने के लिए इन्होंने कठोर तप किया। जिस कारण इनका नाम ब्रह्मचारिणी पड़ा। इन्होंने भगवान शिव को पाने के लिए 1000 वर्षों तक सिर्फ फल खाकर ही रहीं तथा अगले 3000 वर्ष की तपस्या सिर्फ पेड़ों से गिरी पत्तियां खाकर की। इसी कड़ी तपस्या के कारण उन्हें ब्रह्मचारिणी व तपस्चारिणी कहा गया है। कठोर तप के बाद इनका विवाद भगवान शिव से हुआ। माता सदैव आनन्द मयी रहती हैं।

 

ध्यान मंत्र

दधांना कर पहाभ्यामक्षमाला कमण्डलम।

देवी प्रसीदतु मयि ब्रह्मiचारिण्यनुत्तमा।।

 

**For more updates Please follow us!**

social-icon-png           twitter-312464_960_720         linkedin_logo_initials         pinterest-logo         google-plus-circle-icon-png         Youtube.png         rr

23 March 2017 Hindu Panchang – Astrologysupport.com

Year: Durmukhi (1938) Today Panchang, Daily Panchang

Ayanam: Uttarayana

Ritu: Vasanta

Week: Thursday

Month: Phalguna

Paksha: Krishna Paksha

Tithi: Dashami 1:27 pm

Nakshatra: U.shada 3:47 pm

Yoga: Shiva 5:25 am+

Karana: Vishti/Bhadra 1:27 pm, Bava 1:46 am+

Varjya: 7:57 pm – 9:36 pm

Durmuhurth: 10:21 am – 11:09 am, 3:12 pm – 4:01 pm

Rahukal: 1:53 pm – 3:24 pm

Yamaganda: 6:18 am – 7:49 am

Amritakaal: 8:56 am – 10:39 am, 5:56 am+ – 7:36 am+

Gulika: 9:20 am – 10:51 am

Sunrise: 6:18 am

Sunset: 6:26 pm

Solar Zodiac: Mina

Lunar Zodiac: Makara

**For more updates Please follow us!**

social-icon-png           twitter-312464_960_720         linkedin_logo_initials         pinterest-logo         google-plus-circle-icon-png         Youtube.png         rr

22 March 2017 Hindu Panchang – astrologysupport.com

Year: Durmukhi (1938) 8 September 2015 Panchang

Ayanam: Uttarayana

Ritu: Vasanta

Week: Wednesday

Month: Phalguna

Paksha: Krishna Paksha

Tithi: Navami 12:18 pm

Nakshatra: P.shadha 2:07 pm

Yoga: Parigha 5:59 am+

Karana: Garaja 12:18 pm, Vanija 12:58 am+

Varjya: 10:40 pm – 12:23 am+

Durmuhurth: 11:58 am – 12:47 pm

Rahukal: 12:23 pm – 1:53 pm

Yamaganda: 7:50 am – 9:21 am

Amritakaal: 8:51 am – 10:37 am

Gulika: 10:52 am – 12:23 pm

Sunrise: 6:19 am

Sunset: 6:26 pm

Solar Zodiac: Mina

Lunar Zodiac: Makara 8:35 pm

**For more updates Please follow us!**

social-icon-png           twitter-312464_960_720         linkedin_logo_initials         pinterest-logo         google-plus-circle-icon-png         Youtube.png         rr

 

 

 

21 March 2017 Hindu Panchang – astrologysupport.com

Year: Durmukhi (1938) Today Panchang, Daily Panchang

Ayanam: Uttarayana

Ritu: Vasanta

Week: Tuesday

Month: Phalguna

Paksha: Krishna Paksha

Tithi: Ashtami 10:32 am

Nakshatra: Mula 11:51 am

Yoga: Variyan 6:00 am+

Karana: Kaulava 10:32 am, Taitila 11:29 pm

Varjya: 10:04 am – 11:51 am, 10:21 pm – 12:06 am+

Durmuhurth: 8:45 am – 9:33 am, 11:11 pm – 11:59 pm

Rahukal: 3:24 pm – 4:55 pm

Yamaganda: 9:21 am – 10:52 am

Amritakaal: Nil Gulika: 12:23 pm – 1:54 pm

Sunrise: 6:20 am

Sunset: 6:26 pm

Solar Zodiac: Mina

Lunar Zodiac: Dhanus

**For more updates Please follow us!**

social-icon-png           twitter-312464_960_720         linkedin_logo_initials         pinterest-logo         google-plus-circle-icon-png         Youtube.png         rr

 

 

 

20 March 2017 Hindu Panchang – astrologysupport.com

Year: Durmukhi (1938) Today Panchang, Daily Panchang

Ayanam: Uttarayana

Ritu: Vasanta

Week: Monday

Month: Phalguna

Paksha: Krishna Paksha

Tithi: Saptami 8:19 am

Nakshatra: Jyeshtha 9:09 am

Yoga: Vyatipata 5:36 am+

Karana: Bava 8:19 am, Balava 9:28 pm

Varjya: Nil Durmuhurth: 12:47 pm – 1:36 pm, 3:12 pm – 4:01 pm

Rahukal: 7:51 am – 9:22 am

Yamaganda: 10:53 am – 12:23 pm

Amritakaal: 4:43 am+ – 6:30 am+

Gulika: 1:54 pm – 3:24 pm

Sunrise: 6:21 am

Sunset: 6:26 pm

Solar Zodiac: Mina

Lunar Zodiac: Dhanus 9:09 am

**For more updates Please follow us!**

social-icon-png           twitter-312464_960_720         linkedin_logo_initials         pinterest-logo         google-plus-circle-icon-png         Youtube.png         rr

 

 

18 March 2017 Hindu Panchang – astrologysupport.com

Year: Durmukhi (1938)  8 September 2015 Panchang

Ayanam: Uttarayana

Ritu: Vasanta

Week: Saturday

Month: Phalguna

Paksha: Krishna Paksha

Tithi: Shashthi 5:53 am+

Nakshatra: Anuraadha 6:14 am+

Yoga: Vajra 4:03 am+

Karana: Garaja 4:38 pm, Vanija 5:53 am+

Varjya: 7:48 am – 9:35 am

Durmuhurth: 6:22 am – 7:11 am, 7:11 am – 7:59 am

Rahukal: 9:23 am – 10:53 am

Yamaganda: 1:54 pm – 3:24 pm

Amritakaal: 6:34 pm – 8:22 pm

Gulika: 6:22 am – 7:53 am

Sunrise: 6:22 am

Sunset: 6:25 pm

Solar Zodiac: Mina

Lunar Zodiac: Vrishchika

**For more updates Please follow us!**

social-icon-png           twitter-312464_960_720         linkedin_logo_initials         pinterest-logo         google-plus-circle-icon-png         Youtube.png         rr

 

 

 

17 March 2017 Hindu Panchang – Astrologysupport.com

Year: Durmukhi (1938) Today Panchang, Daily Panchang

Ayanam: Uttarayana

Ritu: Vasanta

Week: Friday

Month: Phalguna

Paksha: Krishna Paksha

Tithi: Panchami 3:26 am+

Nakshatra: Vishaakha 3:19 am+

Yoga: Harshana 3:12 am+

Karana: Kaulava 2:16 pm,

Taitila 3:26 am+ Varjya: 6:49 am – 8:36 am

Durmuhurth: 8:47 am – 9:36 am, 12:48 pm – 1:36 pm

Rahukal: 10:54 am – 12:24 pm

Yamaganda: 3:24 pm – 4:55 pm

Amritakaal: 5:30 pm – 7:17 pm

Gulika: 7:53 am – 9:24 am

Sunrise: 6:23 am

Sunset: 6:25 pm

Solar Zodiac: Mina

Lunar Zodiac: Vrishchika 8:36 pm

**For more updates Please follow us!**

social-icon-png           twitter-312464_960_720         linkedin_logo_initials         pinterest-logo         google-plus-circle-icon-png         Youtube.png         rr

 

 

 

16 March 2017 Hindu Panchang – Astrologysupport.com

Year: Durmukhi (1938) Today Panchang, Daily Panchang

Ayanam: Uttarayana

Ritu: Vasanta

Week: Thursday

Month: Phalguna

Paksha: Krishna Paksha

Tithi: Chaturthi 1:11 am+

Nakshatra: Svaati 12:34 am+

Yoga: Vyaghata 2:31 am+

Karana: Bava 12:11 pm, Balava 1:11 am+

Varjya: Nil Durmuhurth: 10:24 am – 11:12 am, 3:13 pm – 4:01 pm

Rahukal: 1:54 pm – 3:25 pm

Yamaganda: 6:24 am – 7:54 am

Amritakaal: 2:53 pm – 4:39 pm

Gulika: 9:24 am – 10:54 am

Sunrise: 6:24 am

Sunset: 6:25 pm

Solar Zodiac: Mina

Lunar Zodiac: Tula

**For more updates Please follow us!**

social-icon-png           twitter-312464_960_720         linkedin_logo_initials         pinterest-logo         google-plus-circle-icon-png         Youtube.png         rr

 

 

 

 

 

15 March 2017 Hindu Panchang – Astrologysupport.com

Year: Durmukhi (1938) Today Panchang, Daily Panchang

Ayanam: Uttarayana

Ritu: Vasanta

Week: Wednesday

Month: Phalguna

Paksha: Krishna Paksha

Tithi: Tritiiya 11:17 pm

Nakshatra: Chitra 10:10 pm

Yoga: Dhruva 2:04 am+

Karana: Vanija 10:30 am, Vishti/Bhadra 11:17 pm

Varjya: 4:20 am+ – 6:05 am+

Durmuhurth: 12:01 pm – 12:49 pm

Rahukal: 12:25 pm – 1:55 pm

Yamaganda: 7:55 am – 9:25 am

Amritakaal: 3:15 pm – 4:58 pm

Gulika: 10:55 am – 12:25 pm

Sunrise: 6:25 am

Sunset: 6:25 pm

Solar Zodiac: Mina

Lunar Zodiac: Tula 9:08 am

**For more updates Please follow us!**

social-icon-png           twitter-312464_960_720         linkedin_logo_initials         pinterest-logo         google-plus-circle-icon-png         Youtube.png         rr

hindu mantra for success your career – Astrologysupport.com

CAREER AND BUSINESSHindu Mantra : We are very well aware of the power of Hindu Mantras and use this to get effective solution for all types of human problems. Our babaji, swamiji and astrologers are practicing such mantras for years and know exactly how to solve problems faced by humans. They conduct pujas and yagnas in a satvic way so as to satisfy the planets and thereby bring happiness and prosperity to the clients. All our pujas and hawans are conducted at economical prices.

**For more updates Please follow us!**

social-icon-png           twitter-312464_960_720         linkedin_logo_initials         pinterest-logo         google-plus-circle-icon-png         Youtube.png         rr
mantra-for-girl manglik dosh nivaran

जाने क्यों होता है होलिका का दहन, क्या है इसकी खासियत – Astrologysupport.com

holika 2017.pngरंगों का त्योहार होने के बावजूद होली को काफी महत्व है। सामाजिक और सांस्कृतिक ऐसे बहुत से कारण है जिनकी वजह से लोग होली का त्योहार मनाते हैं और उसका आनंद लेते हैं। होली के दिन हर कोई रंगों की मस्ती में डूबा हुआ नजर आता है। होली के त्योहार को मनाने की परंपरा कई सालों से चली आ रही है। होली के दिन हवा में गुलाल उड़ता दिखाई देता है। भगवान श्रीकृष्ण के जीवन से जुड़े स्थानों पर होली का एक अलग ही रंग देखने को मिलता है। मथुरा, वृंदावन, गोकुल, नंदगांव और बनारस की होली काफी प्रसिद्ध है। बनारस की लट्ठमार होली पूरे विश्व में प्रसिद्ध है। होली का त्योहार दो दिन मनाया जाता है। पहले दिन होलिका दहन किया जाता है इसके अगले दिन धुल्हेंदी के रूप में मनाया जाता है जिसे रंगों की होली कहा जाता है।

होली के मौके पर होलिका दहन का एक विशेष महत्व है। होली का त्योहार बुराई रुपी होलिका के अंत और प्रह्लाद के रुप में अच्छाई की जीत को दर्शता है। हिन्दू धार्मिक ग्रंथों के अनुसार होलिका दहन को होलिका दीपक और छोटी होली के नाम से भी जाना जाता है। होलिका दहन सूरज ढलने के बाद प्रदोष काल शुरू होने के बाद जब पूर्णमासी तिथि चल रही होती है तब किया जाता है। इस साल होलिका दहन 12 मार्च 2017 को शाम 6 बज कर 32 से 8 बजकर 50 मिनट तक किया जाएगा। होलिका दहन का धार्मिक महत्व भी है लोग होली ही इस अग्नि में जौ को सेंकते हैं और उसे अपने घर लेकर जाते हैं।

इसके अलावा लोग होलिका दहन की आग में पांच उपले भी जलाते हैं ताकि उनकी सभी मुश्किलें खत्म हो जाएं और होलिका माता से प्रार्थना करते हैं कि उनकी सभी परेशानियां समाप्त हो जाएं। कहा जाता है कि हिरण्याकश्यप नाम का राजा था, उसने अपनी प्रजा को आदेश दिया था कि वह भगवान की जगह उसकी पूजा करें। लेकिन उसका बेटा प्रह्लाद भगवान विष्णु का परम भक्त था और उसने अपने पिता के इस आदेश को न मान कर भगवान के प्रति अपनी आस्था हमेशा बनाए रखी।

एक दिन हिरण्याकश्यप ने अपने बेटे को सजा देने का फैसला किया। होलिका हिरण्याकश्यप की बहन थी अपने भाई की बात मनाते हुए होलिका प्रह्लाद को लेकर आग में बैठ गई। होलिका के पास एक ऐसा कपड़ा था जिसे वह अपने शरीर पर लपेट लेती थी तो आग उसे छू भी नहीं सकती थी। वहीं आग में बैठने के दौरान प्रह्लाद भगवान विष्णु का स्मरण करता रहा। उसके बाद होलिका का वह कपड़ा उड़कर प्रह्लाद के उपर आ गया जिसकी वजह से उसकी जान बच गई और होलिका आग में जलकर भस्म हो गई। तभी से होली के अवसर पर होलिका दहन की यह प्रभा चली आ रही है।

source – jansatta

**For more updates Please follow us!**

social-icon-png           twitter-312464_960_720         linkedin_logo_initials         pinterest-logo         google-plus-circle-icon-png         Youtube.png         rr

 

11 March 2017 Hindu Panchang – Astrologysupport.com

Year: Durmukhi (1938) Today Panchang, Daily Panchang

Ayanam: Uttarayana

Ritu: Vasanta

Week: Saturday

Month: Phalguna

Paksha: Shukla Paksha

Tithi: Chaturdashi 8:23 pm

Nakshatra: Magha 5:07 pm

Yoga: Dhriti 3:55 am+

Karana: Garaja 8:33 am, Vanija 8:23 pm

Varjya: 1:18 am+ – 2:56 am+

Durmuhurth: 6:28 am – 7:15 am, 7:15 am – 8:03 am

Rahukal: 9:27 am – 10:56 am

Yamaganda: 1:55 pm – 3:25 pm

Amritakaal: 2:42 pm – 4:19 pm

Gulika: 6:28 am – 7:57 am

Sunrise: 6:28 am

Sunset: 6:24 pm

Solar Zodiac: Kumbha

Lunar Zodiac: Simha

**For more updates Please follow us!**

social-icon-png           twitter-312464_960_720         linkedin_logo_initials         pinterest-logo         google-plus-circle-icon-png         Youtube.png         rr

14 NOVEMBER 2015 (SATURDAY) PANCHANG

AAJ KA HINDU PANCHANG hindu panchang by astrology support

Year: Manmatha (1937)

Ayanam: Dakshinayana

Ritu: Hemant

Week: Saturday

Month: Kartika

Paksha: Shukla Paksha

Tithi: Tritiiya 2:26 am+

Nakshatra: Jyeshtha 6:47 pm

Yoga: Sukarman 4:26 am+

Karana: Taitila 2:09 pm, Garaja 2:26 am+

Varjya: Nil

Durmuhurth: 6:23 am – 7:06 am, 7:08 am – 7:50 am

Rahukal: 9:09 am – 10:38 am

Yamaganda: 1:23 pm – 2:51 pm

Amritakaal: 9:28 am – 11:07 am

Gulika: 6:19 am – 7:47 am

Sunrise: 6:21 am

Sunset: 5:39 pm

Solar Zodiac: Tula

Lunar Zodiac: Dhanus 6:47 pm

vashikaran GURU

आज हैं भाई दूज जाने भाई दूज मुहूर्त, पूजा विधि, मान्यता

भाई दूज 2015 happy bhai dooj by astrologysupport.com

भाई दूज, भाई- बहन के अटूट प्रेम और स्नेह का प्रतीक माना जाता है, जिसे यम द्वितीया या भैया दूज (Bhaiya Dooj) भी कहते हैं। यह हिन्दू धर्म के प्रमुख त्यौहारों में से एक है, जिसे कार्तिक माह की शुक्ल द्वितीया को मनाया जाता है।

Love Problem Solution by Astrology support
भाई दूज 2015 
हिन्दू पंचांग के अनुसार भाई दूज (Bhai Dooj) का त्यौहार, साल 2015 में 13 नवम्बर दिन शुक्रवार को मनाया जाएगा।

भाई दूज मुहूर्त 

इस साल भाई दूज के दिन तिलक लगाने का शुभ समय दिन में 01 बजकर 09 मिनट से लेकर 03 बजकर 16 मिनट तक का है।

Indian Astrology

भाई दूज पूजा विधि

भाई दूज के दिन बहनों को भाई के माथे पर टीका लगा उसकी लंबी उम्र की कामना करनी चाहिए। इस दिन सुबह पहले स्नान करके विष्णु और गणेश जी की पूजा करनी चाहिए। इसके उपरांत भाई को तिलक लगाना चाहिए।

स्कंदपुराण के अनुसार इस दिन भाई को बहन के घर जाकर भोजन करने का विधान है। अगर बहन की शादी ना हुई हो तो उसके हाथों का बना भोजन करना चाहिए। अपनी सगी बहन न होने पर चाचा, भाई, मामा आदि की पुत्री अथवा पिता की बहन के घर जाकर भोजन करना चाहिए। साथ ही भोजन करने के पश्चात बहन को गहने, वस्त्र आदि उपहार स्वरूप देना चाहिए। इस दिन यमुनाजी में स्नान का विशेष महत्व है।
भाई दूज की मान्यता 

मान्यता है कि कार्तिक शुक्ल द्वितीय को जो भाई अपनी बहन का आतिथ्य स्वीकार करते हैं उन्हें यमराज का भय नहीं रहता।

Bhadrakali Jyotish Darbar

जाने कौनसी रेखा बताती है आपको सम्मान के साथ पैसा मिलेगा या नहीं

हस्तरेखा एस्ट्रोलॉजीHand Astrology by astrology support

हथेली में सूर्य रेखा बताती है कि व्यक्ति को पैसों के साथ मान-सम्मान मिलेगा या नहीं। सूर्य रेखा अनामिका उंगली (रिंग फिंगर) के ठीक नीचे वाले भाग यानी सूर्य पर्वत पर होती है। सूर्य पर्वत पर जो रेखा खड़ी अवस्था में होती है, वह सूर्य रेखा कहलाती है। यदि किसी व्यक्ति के हाथ में ये रेखा दोष रहित हो तो व्यक्ति को घर-परिवार और समाज में मान-सम्मान के साथ ही पैसा भी प्राप्त होता है। ये रेखा सभी लोगों के हाथों में नहीं होती है। यहां जानिए सूर्य रेखा से जुड़ी खास बातें…READ MORE
FREE ASTROLOGY AT ASTROLOGY SUPPORT

FREE ASTROLOGY AT ASTROLOGY SUPPORT

सूर्य रेखा सूर्य पर्वत से हथेली के निचले हिस्से मणिबंध या जीवन रेखा की ओर जाती है। सूर्य रेखा यदि दूसरी रेखाओं से कटी हुई हो या टूटी हुई हो तो इसका शुभ प्रभाव खत्म हो सकता है।
– हथेली में भाग्य रेखा से निकलकर सूर्य रेखा अनामिका उंगली की ओर जाती है तो यह भी शुभ स्थि

Astrology Support

Astrology Support

ति होती है। इसके प्रभाव से व्यक्ति बहुत नाम और पैसा कमा सकता है।

– यदि किसी व्यक्ति के हाथ में मणिबंध से अनामिका उंगली तक सूर्य रेखा है तो यह बहुत शुभ मानी जाती है। ऐसे लोग जीवन में बहुत कामयाब होते हैं और काफी धन लाभ प्राप्त करते हैं।…READ MORE
FREE INDIAN ASTROLOGY

जाने गोवर्धन पूजा का महत्व

जाने गोवर्धन पूजा का महत्व  –  2015 Govardhan Pooja गोवर्धन पूजा का महत्व

गोवर्धन पूजा के सम्बन्ध में एक लोकगाथा प्रचलित है। कथा यह है कि देवराज इन्द्र को अभिमान हो गया था। इन्द्र का अभिमान चूर करने हेतु भगवान श्री कृष्ण जो स्वयं लीलाधारी श्री हरि विष्णु के अवतार हैं ने एक लीला रची। प्रभु की इस लीला में यूं हुआ कि एक दिन उन्होंने देखा के सभी बृजवासी उत्तम पकवान बना रहे हैं और किसी पूजा की तैयारी में जुटे। श्री कृष्ण ने बड़े भोलेपन से मईया यशोदा से प्रश्न किया ” मईया ये आप लोग किनकी पूजा की तैयारी कर रहे हैं” कृष्ण की बातें सुनकर मैया बोली लल्ला हम देवराज इन्द्र की पूजा के लिए अन्नकूट की तैयारी कर रहे हैं। मैया के ऐसा कहने पर श्री कृष्ण बोले मैया हम इन्द्र की पूजा क्यों करते हैं? मैईया ने कहा वह वर्षा करते हैं जिससे अन्न की पैदावार होती है उनसे हमारी गायों को चारा मिलता है। भगवान श्री कृष्ण बोले हमें तो गोर्वधन पर्वत की पूजा करनी चाहिए क्योंकि हमारी गाये वहीं चरती हैं, इस दृष्टि से गोर्वधन पर्वत ही पूजनीय है और इन्द्र तो कभी दर्शन भी नहीं देते व पूजा न करने पर क्रोधित भी होते हैं अत: ऐसे अहंकारी की पूजा नहीं करनी चाहिए। READ MORE..

FREE ASTROLOGY AT ASTROLOGY SUPPORT

लीलाधारी की लीला और माया से सभी ने इन्द्र के बदले गोवर्घन पर्वत की पूजा की। देवराज इन्द्र ने इसे अपना अपमान समझा और मूसलाधार वर्षा शुरू कर दी। प्रलय के समान वर्षा देखकर सभी बृजवासी भगवान कृष्ण को कोसने लगे कि, सब इनका कहा मानने से हुआ है। तब मुरलीधर ने मुरली कमर में डाली और अपनी कनिष्ठा उंगली पर पूरा गोवर्घन पर्वत उठा लिया और सभी बृजवासियों को उसमें अपने गाय और बछडे़ समेत शरण लेने के लिए बुलाया। इन्द्र कृष्ण की यह लीला देखकर और क्रोधित हुए फलत: वर्षा और तेज हो गयी। इन्द्र का मान मर्दन के लिए तब श्री कृष्ण ने सुदर्शन चक्र से कहा कि आप पर्वत के ऊपर रहकर वर्षा की गति को नियत्रित करें और शेषनाग से कहा आप मेड़ बनाकर पानी को पर्वत की ओर आने से रोकें।READ MORE..

Astrology Support

इन्द्र लगातार सात दिन तक मूसलाधार वर्षा करते रहे तब उन्हे एहसास हुआ कि उनका मुकाबला करने वाला कोई आम मनुष्य नहीं हो सकता अत: वे ब्रह्मा जी के पास पहुंचे और सब वृतान्त कह सुनाया। ब्रह्मा जी ने इन्द्र से कहा कि आप जिस कृष्ण की बात कर रहे हैं वह भगवान विष्णु के साक्षात अंश हैं और पूर्ण पुरूषोत्तम नारायण हैं। ब्रह्मा जी के मुंख से यह सुनकर इन्द्र अत्यंत लज्जित हुए और श्री कृष्ण से कहा कि प्रभु मैं आपको पहचान न सका इसलिए अहंकारवश भूल कर बैठा। आप दयालु हैं और कृपालु भी इसलिए मेरी भूल क्षमा करें। इसके पश्चात देवराज इन्द्र ने मुरलीधर की पूजा कर उन्हें भोग लगाया।READ MORE..

FREE INDIAN ASTROLOGY

इस पौराणिक घटना के बाद से ही गोवर्घन पूजा की जाने लगी। बृजवासी इस दिन गोवर्घन पर्वत की पूजा करते हैं। गाय बैल को इस दिन स्नान कराकर उन्हें रंग लगाया जाता है व उनके गले में नई रस्सी डाली जाती है। गाय और बैलों को गुड़ और चावल मिलाकर खिलाया जाता है।READ MORE..

Astrology Support

Bhadrakali Jyotish Darvar

दीपावली पूजन विधि

HAPPY DIWALI  Happy Diwali 2015 pooja time and vidhi

दीपावली यानी धन और समृद्धि का त्यौहार. इस त्यौहार में गणेश और माता लक्ष्मी के साथ ही साथ धनाधिपति भगवान कुबेर, सरस्वती और काली माता की भी पूजा की जाती है. सरस्वती और काली भी माता लक्ष्मी के ही सात्विक और तामसिक रूप हैं. जब सरस्वती, लक्ष्मी और काली एक होती हैं तब महालक्ष्मी बन जाती हैं.

दिपावली की रात गणेश जी की पूजा से सद्बुद्धि और ज्ञान मिलता है जिससे व्यक्ति में धन कमाने की प्रेरणा आती है. व्यक्ति में इस बात की भी समझ बढ़ती है कि धन का सदुपयोग किस प्रकार करना चाहिए. माता लक्ष्मी अपनी पूजा से प्रसन्न होकर धन का वरदान देती हैं और धनधपति कुबेर धन संग्रह में सहायक होते हैं. इन उद्देश्यों की पूर्ति के लिए ही दीपावली की रात गणेश लक्ष्मी के साथ कुबेर की भी पूजा की जाती है.

FREE ASTROLOGY AT ASTROLOGY SUPPORT
पूजन सामग्री – Diwali Pujan Samagri
– कलावा, रोली, सिंदूर, १ नारियल, अक्षत, लाल वस्त्र , फूल, 5 सुपारी, लौंग,  पान के पत्ते, घी, कलश, कलश हेतु आम का पल्लव, चौकी, समिधा, हवन कुण्ड, हवन सामग्री, कमल गट्टे, पंचामृत ( दूध, दही, घी, शहद, गंगाजल), फल, बताशे, मिठाईयां, पूजा में बैठने हेतु आसन, हल्दी , अगरबत्ती, कुमकुम, इत्र, दीपक, रूई, आरती की थाली. कुशा, रक्त चंदनद, श्रीखंड चंदन.

पर्वोपचार – Diwali Pujan Parvochar
पूजन शुरू करने से पूर्व चौकी को धोकर उस पर रंगोली बनाएं. चौकी के चारों कोने पर चार दीपक जलाएं. जिस स्थान पर गणेश एवं लक्ष्मी की प्रतिमा स्थापित करनी हो वहां कुछ चावल रखें. इस स्थान पर क्रमश: गणेश और लक्ष्मी की मूर्ति को रखें. अगर कुबेर, सरस्वती एवं काली माता की मूर्ति हो तो उसे भी रखें. लक्ष्मी माता की पूर्ण प्रसन्नता हेतु भगवान विष्णु की मूर्ति लक्ष्मी माता के बायीं ओर रखकर पूजा करनी चाहिए.

आसन बिछाकर गणपति एवं लक्ष्मी की मूर्ति के सम्मुख बैठ जाएं. इसके बाद अपने आपको तथा आसन को इस मंत्र से शुद्धि करें  “ऊं अपवित्र : पवित्रोवा सर्वावस्थां गतोऽपिवा। य: स्मरेत् पुण्डरीकाक्षं स बाह्याभ्यन्तर: शुचि :॥” इन मंत्रों से अपने ऊपर तथा आसन पर 3-3 बार कुशा या पुष्पादि से छींटें लगायें फिर आचमन करें – ऊं केशवाय नम: ऊं माधवाय नम:, ऊं नारायणाय नम:, फिर हाथ धोएं, पुन: आसन शुद्धि मंत्र बोलें :-
ऊं पृथ्वी त्वयाधृता लोका देवि त्यवं विष्णुनाधृता। त्वं च धारयमां देवि पवित्रं कुरु चासनम्॥

शुद्धि और आचमन के बाद चंदन लगाना चाहिए. अनामिका उंगली से श्रीखंड चंदन लगाते हुए यह मंत्र बोलें चन्‍दनस्‍य महत्‍पुण्‍यम् पवित्रं पापनाशनम्, आपदां हरते नित्‍यम् लक्ष्‍मी तिष्‍ठतु सर्वदा।

Astrology Support

दीपावली पूजन हेतु संकल्प – Diwali Puja Sankalp
पंचोपचार करने बाद संकल्प करना चाहिए. संकल्प में पुष्प, फल, सुपारी, पान, चांदी का सिक्का, नारियल (पानी वाला), मिठाई, मेवा, आदि सभी सामग्री थोड़ी-थोड़ी मात्रा में लेकर संकल्प मंत्र बोलें : ऊं विष्णुर्विष्णुर्विष्णु:, ऊं तत्सदद्य श्री पुराणपुरुषोत्तमस्य विष्णोराज्ञया प्रवर्तमानस्य ब्रह्मणो ऽह्नि द्वितीय पराद्र्धे श्री श्वेतवाराहकल्पे सप्तमे वैवस्वतमन्वन्तरे, अष्टाविंशतितमे कलियुगे, कलिप्रथम चरणे जम्बुद्वीपे भरतखण्डे आर्यावर्तान्तर्गत ब्रह्मवर्तैकदेशे पुण्य (अपने नगर/गांव का नाम लें) क्षेत्रे बौद्धावतारे वीर विक्रमादित्यनृपते : २०६७, तमेऽब्दे शोभन नाम संवत्सरे दक्षिणायने/उत्तरायणे हेमंत ऋतो महामंगल्यप्रदे मासानां मासोत्तमे कार्तिक मासे कृष्ण पक्षे अमावस तिथौ  (जो वार हो) शुक्र वासरे स्वाति नक्षत्रे प्रीति योग नाग करणादिसत्सुशुभे योग (गोत्र का नाम लें) गोत्रोत्पन्नोऽहं अमुकनामा (अपना नाम लें) सकलपापक्षयपूर्वकं सर्वारिष्ट शांतिनिमित्तं सर्वमंगलकामनया– श्रुतिस्मृत्यो- क्तफलप्राप्तर्थं— निमित्त महागणपति नवग्रहप्रणव सहितं कुलदेवतानां पूजनसहितं स्थिर लक्ष्मी महालक्ष्मी देवी पूजन निमित्तं एतत्सर्वं शुभ-पूजोपचारविधि सम्पादयिष्ये.

गणपति पूजन Ganapati Pujan for Diwali
किसी भी पूजा में सर्वप्रथम गणेश जी की पूजा की जाती है. इसलिए आपको भी सबसे पहले गणेश जी की ही पूजा करनी चाहिए. हाथ में पुष्प लेकर गणपति का ध्यान करें. गजाननम्भूतगणादिसेवितं कपित्थ जम्बू फलचारुभक्षणम्। उमासुतं शोक विनाशकारकं नमामि विघ्नेश्वरपादपंकजम्।
आवाहन: ऊं गं गणपतये इहागच्छ इह तिष्ठ कहकर पात्र में अक्षत छोड़ें. अर्घा में जल लेकर बोलें एतानि पाद्याद्याचमनीय-स्नानीयं, पुनराचमनीयम् ऊं गं गणपतये नम:. रक्त चंदन लगाएं: इदम रक्त चंदनम् लेपनम्  ऊं गं गणपतये नम:, इसी प्रकार श्रीखंड चंदन बोलकर श्रीखंड चंदन लगाएं. इसके पश्चात सिन्दूर चढ़ाएं “इदं सिन्दूराभरणं लेपनम् ऊं गं गणपतये नम:. दर्वा और विल्बपत्र भी गणेश जी को चढ़ाएं. गणेश जी को वस्त्र पहनाएं. इदं रक्त वस्त्रं ऊं गं गणपतये समर्पयामि.

पूजन के बाद गणेश जी को प्रसाद अर्पित करें: इदं नानाविधि नैवेद्यानि ऊं गं गणपतये समर्पयामि:. मिष्टान अर्पित करने के लिए मंत्र: इदं शर्करा घृत युक्त नैवेद्यं ऊं गं गणपतये समर्पयामि:. प्रसाद अर्पित करने के बाद आचमन करायें. इदं आचमनयं ऊं गं गणपतये नम:. इसके बाद पान सुपारी चढ़ायें: इदं ताम्बूल पुगीफल समायुक्तं ऊं गं गणपतये समर्पयामि:. अब एक फूल लेकर गणपति पर चढ़ाएं और बोलें: एष: पुष्पान्जलि ऊं गं गणपतये नम:

इसी प्रकार से अन्य सभी देवताओं की पूजा करें. जिस देवता की पूजा करनी हो गणेश के स्थान पर उस देवता का नाम लें.

VASHIKARAN-GURU-banner-468-60

कलश पूजन – Kalash Pujan for Diwali
घड़े या लोटे पर मोली बांधकर कलश के ऊपर आम का पल्लव रखें. कलश के अंदर सुपारी, दूर्वा, अक्षत, मुद्रा रखें. कलश के गले में मोली लपेटें.  नारियल पर वस्त्र लपेट कर कलश पर रखें. हाथ में अक्षत और पुष्प लेकर वरूण देवता का कलश में आह्वान करें. ओ३म् त्तत्वायामि ब्रह्मणा वन्दमानस्तदाशास्ते यजमानो हविभि:। अहेडमानो वरुणेह बोध्युरुशंस मान आयु: प्रमोषी:। (अस्मिन कलशे वरुणं सांगं सपरिवारं सायुध सशक्तिकमावाहयामि,
ओ३म्भूर्भुव: स्व:भो वरुण इहागच्छ इहतिष्ठ। स्थापयामि पूजयामि॥)

इसके बाद जिस प्रकार गणेश जी की पूजा की है उसी प्रकार वरूण देवता की पूजा करें. इसके बाद देवराज इन्द्र फिर कुबेर की पूजा करें.

लक्ष्मी पूजन Lakshmi Puja Vidhi for Diwali
सबसे पहले माता लक्ष्मी का ध्यान करें

ॐ या सा पद्मासनस्था, विपुल-कटि-तटी, पद्म-दलायताक्षी।
गम्भीरावर्त-नाभिः, स्तन-भर-नमिता, शुभ्र-वस्त्रोत्तरीया।।
लक्ष्मी दिव्यैर्गजेन्द्रैः। मणि-गज-खचितैः, स्नापिता हेम-कुम्भैः।
नित्यं सा पद्म-हस्ता, मम वसतु गृहे, सर्व-मांगल्य-युक्ता।।

इसके बाद लक्ष्मी देवी की प्रतिष्ठा करें. हाथ में अक्षत लेकर बोलें “ॐ भूर्भुवः स्वः महालक्ष्मी, इहागच्छ इह तिष्ठ, एतानि पाद्याद्याचमनीय-स्नानीयं, पुनराचमनीयम्।”
प्रतिष्ठा के बाद स्नान कराएं: ॐ मन्दाकिन्या समानीतैः, हेमाम्भोरुह-वासितैः स्नानं कुरुष्व देवेशि, सलिलं च सुगन्धिभिः।। ॐ लक्ष्म्यै नमः।। इदं रक्त चंदनम् लेपनम् से रक्त चंदन लगाएं। इदं सिन्दूराभरणं से सिन्दूर लगाएं। ‘ॐ मन्दार-पारिजाताद्यैः, अनेकैः कुसुमैः शुभैः। पूजयामि शिवे, भक्तया, कमलायै नमो नमः।। ॐ लक्ष्म्यै नमः, पुष्पाणि समर्पयामि।’इस मंत्र से पुष्प चढ़ाएं फिर माला पहनाएं. अब लक्ष्मी देवी को इदं रक्त वस्त्र समर्पयामि कहकर लाल वस्त्र पहनाएं.

लक्ष्मी देवी की अंग पूजा Laxmi Ang Puja for Diwali
बायें हाथ में अक्षत लेकर दायें हाथ से थोड़ा-थोड़ा छोड़ते जायें— ऊं चपलायै नम: पादौ पूजयामि ऊं चंचलायै नम: जानूं पूजयामि, ऊं कमलायै नम: कटि पूजयामि, ऊं कात्यायिन्यै नम: नाभि पूजयामि, ऊं जगन्मातरे नम: जठरं पूजयामि, ऊं विश्ववल्लभायै नम: वक्षस्थल पूजयामि, ऊं कमलवासिन्यै नम: भुजौ पूजयामि, ऊं कमल पत्राक्ष्य नम: नेत्रत्रयं पूजयामि, ऊं श्रियै नम: शिरं: पूजयामि।

अष्टसिद्धि पूजा Ashtsidhi Puja for Diwali
अंग पूजन की भांति हाथ में अक्षत लेकर मंत्रोच्चारण करें. ऊं अणिम्ने नम:, ओं महिम्ने नम:, ऊं गरिम्णे नम:, ओं लघिम्ने नम:, ऊं प्राप्त्यै नम: ऊं प्राकाम्यै नम:, ऊं ईशितायै नम: ओं वशितायै नम:।

अष्टलक्ष्मी पूजन – Asht Laxmi Puja for Diwali
अंग पूजन एवं अष्टसिद्धि पूजा की भांति हाथ में अक्षत लेकर मंत्रोच्चारण करें. ऊं आद्ये लक्ष्म्यै नम:, ओं विद्यालक्ष्म्यै नम:, ऊं सौभाग्य लक्ष्म्यै नम:, ओं अमृत लक्ष्म्यै नम:, ऊं लक्ष्म्यै नम:, ऊं सत्य लक्ष्म्यै नम:, ऊं भोगलक्ष्म्यै नम:, ऊं  योग लक्ष्म्यै नम:

FREE ASTROLOGY

नैवैद्य अर्पण Naivedya Arpan for Diwali Pujan 
पूजन के पश्चात देवी को “इदं नानाविधि नैवेद्यानि ऊं महालक्ष्मियै समर्पयामि” मंत्र से नैवैद्य अर्पित करें. मिष्टान अर्पित करने के लिए मंत्र: “इदं शर्करा घृत समायुक्तं नैवेद्यं ऊं महालक्ष्मियै समर्पयामि” बालें. प्रसाद अर्पित करने के बाद आचमन करायें. इदं आचमनयं ऊं महालक्ष्मियै नम:. इसके बाद पान सुपारी चढ़ायें: इदं ताम्बूल पुगीफल समायुक्तं ऊं महालक्ष्मियै समर्पयामि. अब एक फूल लेकर लक्ष्मी देवी पर चढ़ाएं और बोलें: एष: पुष्पान्जलि ऊं महालक्ष्मियै नम:.

लक्ष्मी देवी की पूजा के बाद भगवान विष्णु एवं शिव जी पूजा करनी चाहिए फिर गल्ले की पूजा करें. पूजन के पश्चात सपरिवार आरती और क्षमा प्रार्थना करें

क्षमा प्रार्थना    – Kshama Prartha for Diwali Puja
न मंत्रं नोयंत्रं तदपिच नजाने स्तुतिमहो
न चाह्वानं ध्यानं तदपिच नजाने स्तुतिकथाः ।
नजाने मुद्रास्ते तदपिच नजाने विलपनं
परं जाने मातस्त्व दनुसरणं क्लेशहरणं

विधेरज्ञानेन द्रविणविरहेणालसतया
विधेयाशक्यत्वात्तव चरणयोर्याच्युतिरभूत् ।
तदेतत् क्षंतव्यं जननि सकलोद्धारिणि शिवे
कुपुत्रो जायेत क्वचिदपि कुमाता न भवति

पृथिव्यां पुत्रास्ते जननि बहवः संति सरलाः
परं तेषां मध्ये विरलतरलोहं तव सुतः ।
मदीयो7यंत्यागः समुचितमिदं नो तव शिवे
कुपुत्रो जायेत् क्वचिदपि कुमाता न भवति

जगन्मातर्मातस्तव चरणसेवा न रचिता
न वा दत्तं देवि द्रविणमपि भूयस्तव मया ।
तथापित्वं स्नेहं मयि निरुपमं यत्प्रकुरुषे
कुपुत्रो जायेत क्वचिदप कुमाता न भवति

परित्यक्तादेवा विविध सेवाकुलतया
मया पंचाशीतेरधिकमपनीते तु वयसि
इदानींचेन्मातः तव यदि कृपा
नापि भविता निरालंबो लंबोदर जननि कं यामि शरणं

श्वपाको जल्पाको भवति मधुपाकोपमगिरा
निरातंको रंको विहरति चिरं कोटिकनकैः
तवापर्णे कर्णे विशति मनुवर्णे फलमिदं
जनः को जानीते जननि जपनीयं जपविधौ

चिताभस्म लेपो गरलमशनं दिक्पटधरो
जटाधारी कंठे भुजगपतहारी पशुपतिः
कपाली भूतेशो भजति जगदीशैकपदवीं
भवानि त्वत्पाणिग्रहणपरिपाटीफलमिदं

न मोक्षस्याकांक्षा भवविभव वांछापिचनमे
न विज्ञानापेक्षा शशिमुखि सुखेच्छापि न पुनः
अतस्त्वां सुयाचे जननि जननं यातु मम वै
मृडाणी रुद्राणी शिवशिव भवानीति जपतः

नाराधितासि विधिना विविधोपचारैः
किं रूक्षचिंतन परैर्नकृतं वचोभिः
श्यामे त्वमेव यदि किंचन मय्यनाधे
धत्से कृपामुचितमंब परं तवैव

आपत्सु मग्नः स्मरणं त्वदीयं
करोमि दुर्गे करुणार्णवेशि
नैतच्छदत्वं मम भावयेथाः
क्षुधातृषार्ता जननीं स्मरंति

जगदंब विचित्रमत्र किं
परिपूर्ण करुणास्ति चिन्मयि
अपराधपरंपरावृतं नहि माता
समुपेक्षते सुतं

मत्समः पातकी नास्ति
पापघ्नी त्वत्समा नहि
एवं ज्ञात्वा महादेवि
यथायोग्यं तथा कुरु

Astrology Support

Astrology Support

Astrology Support

10 NOVEMBER 2015 (TUESDAY) PANCHANG

AAJ KA HINDU PANCHANG 

Year: Manmatha (1937) Today Panchang, Daily Panchang

Ayanam: Dakshinayana

Ritu: Hemant

Week: Tuesday

Month: Aashvayuja

Paksha: Krishna Paksha

Tithi: Chaturdashi 9:22 pm

Nakshatra: Chitra 11:00 am

Yoga: Aayushman 5:20 am+

Karana: Vishti/Bhadra 8:19 am, Shakuni 9:22 pm

Varjya: 5:16 pm – 7:01 pm

Durmuhurth: 8:37 am – 9:22 am, 10:47 pm – 11:34 pm

Rahukal: 2:52 pm – 4:17 pm

Yamaganda: 9:09 am – 10:37 am

Amritakaal: 3:48 am+ – 5:37 am+

Gulika: 11:58 am – 1:23 pm

Sunrise: 6:19 am

Sunset: 5:40 pm

Solar Zodiac: Tula

Lunar Zodiac: Tula

Astrology Support

धनतेरस 2015 पूजा विधि , मंत्र , प्रदोषकाल , कथा

धनतेरस 2015 धनतेरस 2015 पूजा विधि

लक्ष्मी-कुबेर पूजा मुहूर्त: शाम 06:04 से लेकर रात्रि 07:06

प्रदोष काल मुहूर्त: शाम 05:38 से लेकर रात्रि 08:10

धनतेरस पूजा विधि – 
स्कंदपुराण के अनुसार कार्तिक कृष्ण त्रयोदशी को प्रदोषकाल में घर के दरवाजे पर यमराज के लिए दीप देने से अकाल मृत्यु का भय खत्म होता है। इस दिन पूरे विधि- विधान से देवी लक्ष्मी और धन के देवता कुबेर की पूजा करने का विधान है। माना जाता है कि इस दिन प्रदोषकाल में लक्ष्मी जी की पूजा करने से वह घर में ही ठहर जाती हैं।

धनतेरस मंत्र 

दीपदान के समय इस मंत्र का जाप करते रहना चाहिए:

मृत्युना पाशदण्डाभ्यां कालेन च मया सह।
त्रयोदश्यां दीपदानात सूर्यज: प्रीयतामिति॥

इस मंत्र का अर्थ है:

त्रयोदशी को दीपदान करने से मृत्यु, पाश, दण्ड, काल और लक्ष्मी के साथ सूर्यनन्दन यम प्रसन्न हों। इस मंत्र के द्वारा लक्ष्मी जी भी प्रसन्न होती हैं।

प्रदोषकाल 

इस दिन प्रदोषकाल के समय दीपदान देना शुभ माना जाता है। दीपदान का शुभ मुहूर्त शाम 5 बजकर 38 मिनट से लेकर रात्रि 8 बजकर 10 मिनट तक है।  इस दिन कुबेर भगवान और लक्ष्मी जी की पूजा का शुभ मुहूर्त शाम 6 बजकर 04 मिनट से लेकर रात्रि 07 बजकर 06 मिनट तक है।

धनतेरस के दिन खरीददारी

नई चीजों के शुभ आगमन के इस पर्व में मुख्य रूप से नए बर्तन या सोना-चांदी खरीदने की परंपरा है। आस्थावान भक्तों के अनुसार चूंकि जन्म के समय धन्वंतरि जी के हाथों में अमृत का कलश था, इसलिए इस दिन बर्तन खरीदना अति शुभ होता है। विशेषकर पीतल के बर्तन खरीदना बेहद शुभ माना जाता है।

धनतेरस कथा

कहा जाता है कि इसी दिन यमराज से राजा हिम के पुत्र की रक्षा उसकी पत्नी ने किया था, जिस कारण दीपावली से दो दिन पहले मनाए जाने वाले ऐश्वर्य का त्यौहार धनतेरस पर सायंकाल को यम देव के निमित्त दीपदान किया जाता है। इस दिन को यमदीप दान भी कहा जाता है। मान्यता है कि ऐसा करने से यमराज के कोप से सुरक्षा मिलती है और पूरा परिवार स्वस्थ रहता है। इस दिन घरों को साफ-सफाई, लीप-पोत कर स्वच्छ और पवित्र बनाया जाता है और फिर शाम के समय रंगोली बना दीपक जलाकर धन और वैभव की देवी मां लक्ष्मी का आवाहन किया जाता है।

8 NOVEMBER 2015 (SUNDAY) PANCHANG

AAJ KA HINDU PANCHANG  Today Panchang, Daily Panchang

Year: Manmatha (1937) Ayanam: Dakshinayana
Ritu: Hemant Week: Sunday
Month: Aashvayuja Paksha: Krishna Paksha
Tithi: Dvadashi 4:32 pm Nakshatra: Hasta Full Night
Yoga: Vishkambha 3:55 am+ Karana: Taitila 4:32 pm, Garaja 5:51 am+
Varjya: 2:32 pm – 4:23 pm Durmuhurth: 4:11 pm – 4:52 pm
Rahukal: 4:17 pm – 5:40 pm Yamaganda: 11:56 am – 1:22 pm
Amritakaal: 1:20 am+ – 3:08 am+ Gulika: 2:53 pm – 4:15 pm
Sunrise: 6:18 am Sunset: 5:41 pm
Solar Zodiac: Tula Lunar Zodiac: Kanya
Astrology Support

Bhadrakali Jyotish Darvar

Astrology Support

दीपावली की रात को किए जाते हैं ये 11 अचूक टोने-टोटके

जाने पंडित कपिल शर्मा जी से  दीपावली की रात को किए जाते हैं ये 11 अचूक टोने-टोटके

दीपावली की रात महानिशा मानी जाती है। दिवाली की रात पर किए गए टोने-टोटके, तंत्र-मंत्र प्रयोग अपनी पूरी शक्ति से काम करते हैं। इसीलिए इस pandit ji ke totke by astrology supportदिन तंत्र प्रयोग करने का विशेष महत्व बताया गया है। आप भी इस दिन कुछ अत्यन्त ही सरल, साधारण लेकिन बेहद शक्तिशाली दीवाली के टोने टोटकों का प्रयोग कर अपनी इच्छाएं पूर्ण कर सकते हैं। प्रयोग के बारे में जानने के लिए आगे की स्लाइड्स देखें या नीचे क्लिक करें:

मनचाही वस्तु की प्राप्ति के लिए दीवाली का तंत्र प्रयोग
अटके कार्य पूरे करने के लिए टोने टोटके
नया मकान/ घर खरीदने के लिए तंत्र प्रयोग
ऑफिस / व्यापार में तरक्की के लिए प्रयोग
दरिद्रता दूर भगाने के लिए सरसों के तेल का प्रयोग
आर्थिक समृद्धि दिन दूनी रात चौगुनी बढ़ाने के लिए इत्र का प्रयोग
घर का क्लेश दूर करने के लिए सिंदूर के टोने-टोटके
दीवाली की रात व्यापारी करें धन बढ़ाने के ये अचूक उपाय
श्रीसूक्त तथा लक्ष्मीसूक्त के तंत्र प्रयोग
मां लक्ष्मी की पूजा में करें ये प्रयोग – \

Astrology Support

Astrology Support

 

6 NOVEMBER 2015 (FRIDAY) PANCHANG

   AAJ KA PANCHANG 

Year: Manmatha(1937) Today Panchang, Daily Panchang

Ayanam: Dakshinayana

Ritu: Hemant

Week: Friday

Month: Aashvayuja

Paksha: Krishna Paksha

Tithi: Dashami 11:04 am

Nakshatra: P.Phalguni 1:54 am+

Yoga: Aindra 1:50 am+

Karana: Vishti/Bhadra 11:04 am, Bava 12:22 am+

Varjya: 7:46 am – 9:40 am

Durmuhurth: 8:35 am – 9:17 am, 12:25 pm – 1:06 pm

Rahukal: 10:31 am – 11:57 am

Yamaganda: 2:48 pm – 4:18 pm

Amritakaal: 6:36 pm – 8:25 pm

Gulika: 7:39 am – 9:05 am

Sunrise: 6:17 am

Sunset: 5:41 pm

Solar Zodiac: Tula

Lunar Zodiac: Simha

FREE ASTROLOGY AT ASTROLOGY SUPPORT

FREE ASTROLOGY AT ASTROLOGY SUPPORT

Diwali Puja in Hindi – दिवाली पूजा विधि

ASTROLOGY SUPPORT  

HAPPY Diwali BY ASTROLOGY SUPPORT

HAPPY Diwali BY ASTROLOGY SUPPORT

दीवाली हिन्दूओं के मुख्य त्यौहारों में एक है। इस वर्ष दीवाली 11 नवंबर 2015 को मनाई जाएगी। दीवाली भगवान श्री राम के अयोध्या वापसी की खुशी में मनाई जाती है। इस दिन लक्ष्मी जी की पूजा का विधान है। 

पूजा में आवश्यक साम्रगी: इस दिन लक्ष्मी जी की पूजा में दीपक, कमल के फूल, जावित्री, लड्डू आदि को अवश्य शामिल करना चाहिए। नारदपुराण के अनुसार कमल के फूल तो माता लक्ष्मी को अतिप्रिय होते हैं। पूजा करने के लिए उत्तर या पूर्व दिशा में मुख करना चाहिए।

पूजा विधि (Laxmi Puja Vidhi on Diwali): स्कंद पुराण के अनुसार कार्तिक अमावस्या के दिन प्रात: काल स्नान आदि से निवृत होकर सभी देवताओं की पूजा करनी चाहिए। इस दिन संभव हो तो दिन में भोजन नहीं करना चाहिए। इसके बाद प्रदोष काल में माता लक्ष्मी की पूजा करनी चाहिए। माता की स्तुति और पूजा के बाद दीप दान करना चाहिए।
लक्ष्मी मंत्र (Laxmi Mantra in Hindi): लक्ष्मी जी की पूजा के समय निम्न मंत्र का लगातार उच्चारण करते रहें: 

ऊं श्रीं ह्रीं श्रीं महालक्ष्म्यै नम: ॥

अन्य लक्ष्मी मंत्र पढ़ने के लिए यहां क्लिक करे: Laxmi Mantra in Hindi
दीपावली पूजा की अधिक जानकारी के लिए क्लिक करें: Diwali Puja in Hindi
लक्ष्मी जी की आरती पढ़ने के लिए क्लिक करें: Laxmi Ji ki Aarti in Hindi

Astrology Support

Astrology Support

FREE ASTROLOGY AT ASTROLOGY SUPPORT

5 NOVEMBER 2015 (THURSDAY) PANCHANG

     AAJ KA PANCHANG 

Year: Manmatha (1937)Today Panchang, Daily Panchang

Ayanam: Dakshinayana

Ritu: Hemant

Week: Thursday

Month: Aashvayuja

Paksha: Krishna Paksha

Tithi: Navami 8:39 am

Nakshatra: Magha 10:49 pm

Yoga: Brahma 12:50 am+

Karana: Garaja 8:39 am, Vanija 9:47 pm

Varjya: 9:22 am – 11:12 am

Durmuhurth: 10:03 am – 10:49 am, 2:41 pm – 3:23 pm

Rahukal: 1:26 pm – 2:51 pm

Yamaganda: 6:17 am – 7:44 am

Amritakaal: 8:07 pm – 9:51 pm

Gulika: 9:11 am – 10:32 am

Sunrise: 6:16 am

Sunset: 5:42 pm

Solar Zodiac: Tula

Lunar Zodiac: Simha

FREE ASTROLOGY AT ASTROLOGY SUPPORT

31 OCTOBER 2015 (SATURDAY) PANCHANG

                           HINDU PANCHANG Today Panchang, Daily Panchang

Year: Manmatha (1937)

Ayanam: Dakshinayana

Ritu: Hemant

Week: Saturday

Month: Aashvayuja

Paksha: Krishna Paksha

Tithi: Chaturthi 6:28 am, Panchami 5:10 am+

Nakshatra: Mrigashirsha 3:59 pm

Yoga: Shiva 2:32 am+

Karana: Balava 6:26 am, Kaulava 5:46 pm, Taitila 5:10 am+

Varjya: 12:18 am+ – 1:53 am+

Durmuhurth: 6:17 am – 6:59 am, 7:01 am – 7:45 am

Rahukal: 9:05 am – 10:32 am

Yamaganda: 1:26 pm – 2:50 pm

Amritakaal: 7:33 am – 9:06 am, 5:52 am+ – 7:26 am+

Gulika: 6:14 am – 7:42 am

Sunrise: 6:14 am

Sunset: 5:44 pm

Solar Zodiac: Tula

Lunar Zodiac: Mithuna 4:18 am

Astrology Support

जीवन भविष्यवाणियों (LIFE PREDICTIONS)

LIFE PREDICTIONS Life Predictions

Life is a gift from the Almighty who chooses and writes three-fourthof our luck and leaves one-fourth in our hands constructed on our own Karma.Neither is our life stationary nor are the stars and planets that govern us. Manycase studies down the centuries have broadly confirmed these statistics.Jyotish, the Eyes of the Vedas, acclaims that each person gets an in-depthunderstanding of his/her horoscope, so that one may talk the quadrant of fortunethat remains in our control and make a healthier and satisfying life, one thataids a optimistic karmic journey.

Vedic astrology deals with seven planets and two lunular nodes (frequentlyknown as shadow planets) and how they impact you as per their locating in yourchart at the time of your birth. However these planets are not immobile andtheir movement through the Vedic sky permits individuals to adopt a diverseroute in their life pathway. The growth of life through the years collectingexperience and maturity is the factual story of life.

There is a planetary mystery that unlike planets are dragging us indifferent orders causing confusions, incorrect changes while maturity and skillhelps us to choose the right dimension. With the life prediction report, you will get a customized summary of yourentire life based on your birth chart. This report is prepared using theancient and precisely accurate principles

Life Guidelines 
The 2 most collective elements in the universe are hydrogen and silliness.
If at first you don’t get ahead, dropping is not for you.
Money can’t buy cheerfulness. But it sure makes unhappiness easierto live with

Life Predictions 
Get a personalised overview of your whole life based on your birthchart and take a look at the main astrological tendencies with this exclusivepersonalized prediction. This is an thorough & complete study of all the 12houses of your horoscope, feature & periods of your life which acts as adirectorial force for the rest of your life .This report permits you tounderstand the simple nature of different planets in your birth chart, theirimpact on your character, behaviour, social position Etc.

This Life reading report goes beyond day-to-day features, offeringyou a broader opinion of your life. The lifepredictions are based on Vedic astrology created physically by our renownedastrologers. After receiving the proposals from our astrologers, you mightbring needed changes in your performance, temperament, and customs if required.

Life Prediction is a personalized reading with a detailed analysis of theinfluences of different planets on your life through Your Horoscope andsuggests you remedies that will help you attain peace, prosperity and Success.You can have Complete and intact review of your Horoscope for entire Peace ofmind and Happiness. Discover your assets and fault, or discover the potentialfor development and growth in yourself.

Life predictions covers- 
Explanation of all planets and the roles played by them in your lifetime
A summary of the many areas of your life like fitness, finance, occupation
A complete analysis of your horoscope along with your forte and weakness

Astrology Support

30 OCTOBER 2015 (FRIDAY) PANCHANG

                               30 OCTOBER 2015 PANCHANG 

Year: Manmatha (1937)

Ayanam: Dakshinayana

Ritu: Hemant

Week: Friday

Month: Aashvayuja

Paksha: Krishna Paksha

Tithi: Tritiiya 8:25 am

Nakshatra: Rohini 4:55 pm

Yoga: Variyan 7:29 am, Parigha 4:42 am+

Karana: Vishti/Bhadra 8:25 am, Bava 7:18 pm

Varjya: 9:27 am – 10:58 am, 10:16 pm – 11:52 pm

Durmuhurth: 8:31 am – 9:20 am, 12:23 pm – 1:06 pm

Rahukal: 10:32 am – 11:57 am

Yamaganda: 2:53 pm – 4:21 pm

Amritakaal: 1:58 pm – 3:25 pm

Gulika: 7:43 am – 9:06 am

Sunrise: 6:14 am

Sunset: 5:44 pm

Solar Zodiac: Tula

Lunar Zodiac: Vrishabha

Astrology Support

29 OCTOBER 2015 (THURSDAY) PANCHANG

           Daily Hindu Panchang 29 october 2015 panchang

Year: Manmatha (1937)Today Panchang, Daily Panchang

Ayanam: Dakshinayana

Ritu: Hemant

Week: Thursday

Month: Aashvayuja

Paksha: Krishna Paksha

Tithi: Dvitiiya 11:01 am

Nakshatra: Krittika 6:37 pm

Yoga: Vyatipata 10:53 am

Karana: Garaja 11:01 am, Vanija 9:40 pm

Varjya: 7:46 am – 9:07 am

Durmuhurth: 10:03 am – 10:50 am, 2:40 pm – 3:30 pm

Rahukal: 1:25 pm – 2:49 pm

Yamaganda: 6:16 am – 7:37 am

Amritakaal: 4:25 pm – 5:50 pm

Gulika: 9:09 am – 10:35 am

Sunrise: 6:14 am

Sunset: 5:45 pm

Solar Zodiac: Tula

Lunar Zodiac: Vrishabha 2:12 am

VASHIKARAN-GURU-banner-468-60

Vedic Astrology (वैदिक एस्ट्रोलॉजी )

Vedic Astrology (वैदिक एस्ट्रोलॉजी )

Vedic Astrology Vedic Astrology at Astrology Support
We all are well acquainted with what astrology isand how it is proficient in influencing our lives. Of these, the Vedic Astrology and Hindu Astrologysystem from India is considered to be the mainly popular and is alleged to be extremelyprecise by several people. Vedicastrology is self-determining of the inter-relationship of the Sun andearth. It is based on the situation of stars, constellations, planets and theirrelations with each other. VedicAstrology Predictions is pinched from the scientifically authenticatedtheory that the earth not only rotates around the Sun but as well revolves onits axis, which makes Vedic Astrology more precise than the other methods of astrology.

In Vedicastrology, there are twelve zodiac signs significantly, called the twelve”Rashis” in the Hindi language. Each Rashi is ruled by a planet and patentsdefinite particular characteristics and individuality traits bequeathed by thatgoverning planet. In Vedic astrologypredictions, calculations are carried out on the source of which zodiacsign in which the Moon was positioned at the time of birth of a human being.Planets participate in a significant responsibility in an individual’s life.Apart from the main planets in the solar system, Rahu and Ketu, the two divinebodies valued in Hindu astrology andthe two nodes where the Moon’s oblique path crosses that of the earth plays avital role in the Vedic Astrology and Hindu Astrology.

The birth graphic representation primed on the beginningof the date, time and place of birth is called the “Kundali” or birthchart. The Kundali is given the extreme significance in the Vedic astrology and is used to foreseethe outlook of an individual. Vedicastrologers see the horoscope compatibility at the time of wedding, where Kundali matching is an significantritual in which the birth charts of both the to be bride and the bridegroom areevaluated and matched for Astrology horoscope compatibility.

VedicAstrology is based on the principle that no matter whathappens to us it is the result of our past karmas. The Dashas in Vedic astrology and Hindi Astrology show us how the Karma unfurls in our lives. Eventhough Vedic Astrology Predictions revolvesin the region of multiple systems of unenthusiastic conditions or”Dashas,” the Vimshottari Dasha is measured the most well-known one.

Vedicastrology not only predicts our future but also helps uswith Muhurtha strength of mind. Consult our best Vedic astrologer to get your birth chart prediction and also for Horoscope matching as well as gettingthe perfect Muhurtha for any occasion at your home.

More questionsabout Vedic Astrology? Our Vedic Astrologer will answer all yourquestions regarding how to find out your soul mate, earn more money and all thequestions that are pestering you!

Astrology Support

Astrology Support

27 OCTOBER 2015 (TUESDAY) PANCHANG

                            AAJ KA PANCHANGToday Panchang, Daily Panchang

Year: Manmatha (1937)

Ayanam: Dakshinayana

Ritu: Hemant

Week: Tuesday

Month: Aashvayuja

Paksha: Shukla Paksha

Tithi: Purnima 5:35 pm

Nakshatra: Ashvini 11:25 pm

Yoga: Vajra 6:36 pm

Karana: Vishti/Bhadra 7:19 am,

Bava 5:35 pm, Balava 3:47 am+

Varjya: 7:53 pm – 9:15 pm

Durmuhurth: 8:29 am – 9:19 am, 10:48 pm – 11:35 pm

Rahukal: 2:52 pm – 4:22 pm

Yamaganda: 9:09 am – 10:33 am

Amritakaal: 5:02 pm – 6:31 pm

Gulika: 12:02 pm – 1:25 pm

Sunrise: 6:13 am

Sunset: 5:46 pm

Solar Zodiac: Tula

Lunar Zodiac: Mesha 2:13 am

VASHIKARAN-GURU-banner-468-60

 

REMEDIES FOR MANGAL DOSHA

Remedies for Mangal DoshaRemedies For Mangal Dosha

Mangal Dosha is recognised by other names such as Kuja Dosha, Bhom Dosha orAngarakha Dosha. It is a generally found dosha that may disturb men and women correspondingly.In astrology it is deliberated as the placement of the sphere Mars more frequentlyknown as Mangal, in the 1st, 2nd, 4th, 7th, 8th and 12th house of a person’shoroscope graph. Out of overall twelve houses its existence in any of these sixhouses roots this dosha. Those who have this dosha are called Mangliks. This dosha generally disturbsthe married life by affecting hurdles and disorder, sometimes leading to departureand divorce. Monetary loss and proficient troubles are also indicated by Mangal Dosha.

Preparations to lessen ill effects of Mangaldosha
However, one does not need toworry about the effects of this dosha as there are certain therapies that helpin the termination of the disapproval of Mangal.There are certain rites, and mantras that can be monitored. List is givenbelow:

Marriage between two Manglik individuals
If both the spouses are Mangliks thenthis dosha gets invalidated. All its ill- special effects are void and the twocan have a sanctified and happy married life.

Kumbh Vivah
When one person is Manglik in a marriage, the harm ful effects of Mangal dosha can be cancelled by execution this ceremonial called Kumbh Vivah. According to HinduVedic Forecasting a Manglik personis made to marry a Banana tree, peepal tree, or a silver/golden statue of Lord Vishnu.

Assignment of Ruins in the horoscope chart
Astrologers also privilege thatif the first house is of Aries or Mesh in one’s horoscope chart, and Mars or Mangal exist in in this community thenthe Mangal Dosha is no lengthiereffective, as Mars is in its own household- Aries.
Fasting
Out of all the therapiesfasting on Tuesdays are also reflected an actual remedy. Manglik individuals who perceive a fast on this day should eat onlytoor daal.

Chanting
Manglikindividuals should sing the Navgraha mantra which is known as Mangal Mantra on Tuesdays. They canalso sing the Gayatri mantra 108 times in a day or the Hanuman Chalisa, day-to-day.

Performing Pujas in Temples
Go toNavgraha temples decrease the ill-effects instigated by Mangal Dosha. However, there are only rare temples in the whole ofIndia that are devoted to Lord Mangal.The most standard temples are located in Tamil Nadu. Some are also situated inGuwahati, Assam. Execution of these pujas on Tuesdays is very nominal to reducethe ill effects of Mangal dosha. Goto Lord Hanuman temple and worship him on Tuesdays. Give vermilion and sweetmeats.

This Dosha is known to be avery big difficulty in married life. In Hindu custom, in order to balance theevil effect of Manglik dosh, a womanshould marry a peepal or banana tree before she ties the knot with her husband-to-beor she could even marry a mud pot which should be wrecked soon after the bridalceremonies, suggesting that the bride has become a widow and the Manglik dosh problem has been gonewith. This is called Kumbh Vivah.

Manglik Dosha may bring not only problems in married life, but it also createsinterruptions in marriages. If this Doshais not cured, it can change married life into a conflict zone, and both husbandand wife may experience awful problems even death. Besides this, opposingeffect can also be observed on education, start of profession, business etc.

26 OCTOBER 2015 (MONDAY) PANCHANG

                                AAJ KA PANCHANG

Year: Manmatha (1937) Today Panchang, Daily Panchang

Ayanam: Dakshinayana

Ritu: Hemant

Week: Monday

Month: Aashvayuja

Paksha: Shukla Paksha

Tithi: Chaturdashi 9:07 pm

Nakshatra: Revati 2:12 am+

Yoga: Harshana 10:42 pm

Karana: Garaja 10:54 am,Vanija 9:07 pm

Varjya: 3:37 pm – 5:00 pm

Durmuhurth: 12:20 pm – 1:09 pm, 2:43 pm – 3:25 pm

Rahukal: 7:38 am – 9:06 am

Yamaganda: 10:34 am – 12:00 pm

Amritakaal: 12:08 am+ – 1:27 am+

Gulika: 1:23 pm – 2:55 pm

Sunrise: 6:13 am

Sunset: 5:46 pm

Solar Zodiac: Tula

Lunar Zodiac: Mina

CLICK HERE FOR FREE ASTROLOGY – astrologysupport.com

Astrology Support

Astrology Support

INDIAN ASTROLOGY


Indian AstrologyINDIAN ASTROLOGY
The grounds of Hindu astrology are the idea of bandhu of the Vedas,(scriptures), which is the link between the macrocosm and the universe.Practice relies mainly on the sidereal astrological calendar, which is unlikefrom the stifling zodiac used in Western (Hellenistic) astrology. Hinduforecasting consist of several nuanced sub-systems of clarification andforecast with basics not found in Hellenistic forecasting, such as its systemof planetary mansions (Nak?hatra). It was only after the broadcast ofHellenistic astrology that the order of earths in India was fixed in that ofthe seven-day week. This is very trustworthy definition of Indian Astrology! J

yotisha is the old-style Hindu system of space science andastrology. It is also known as Hindu forecasting, Indian astrology, and more inrecent time’s Vedic astrology. The term Hindu astrology has been in use as theEnglish equal of Jyoti?a since the early 19th era, whereas Vedic astrology is acomparatively recent term, entering communal usage in the 1980s with self-help periodicalson Ayurveda or Yoga. Astrology has been discussed in India. Astrology is precludedby the scientific communal.

Jyoti?a is one of the Veda?ga, the six supplementary correctionsused to support Vedic formalities. Themain manuscripts upon which traditional Indian astrology is based are early old-fashionedaccumulations. Astrology rests an important face in the subsists of manyHindus. In Hindu philosophy, new-borns are customarily named grounded on theirjyoti?a charts, and horoscopic concepts are universal in the organization ofthe diary and holidays as well as in many zones of life, such as in making choicesmade about marriage, opening a fresh business, and shifting into a new home.Astrology holds a place among the sciences in modern India. There are sixteen Vargas(Sanskrit: varga, ‘part, division’), or divisional, charts used in Hindu astrology.

कैसे पता करें कि वह आपसे सच्चा प्यार करता है

यह जानना थोड़ा मुश्किल हैं की कोई इंसान आपसे कितना प्यार करता हैं पर है आप इसकी पहिचान जरूर क्र सकते हैं की आपके पार्टनर के दिल मैं आपके लिए क्या हैं।  अगर आप ये जानना चाहते हैं की वो आपसे प्यार करता हैं या करती हैं तो आपको कुछ बाते ध्यान मैं रखनी होगी। वैसे तो सभी के लिए प्यार का मतलब अगल अगल होता हैं पर ये बता पाना की कोई आपसे कितना प्यार करता हैं मुश्किल हैं पर है कुछ बाते ऐसी है जिनसे आप पता लगा सकते हैं की कोई आपसे सच्चा प्यार करता हैं या फिर टाइम पास।

इन बातों का ध्यान रखें

  1. ध्यान रखें कि आपका पार्टनर आपके साथ कैसे व्यवहार करता है।
  2. अगर आपकी या उसकी लाइफ में कुछ ठीक नहीं चल रहा हैं फिर भी वो आपके साथ खुश रहता हैं या नहीं ।
  3. यह भी ध्यान रखें कि वो आपको किसी नजरो से देखता है।
  4. अगर आप उसके साथ हो और वो आपके साथ हंसी मजाक कर रहा हैं बिना किसी की परवा किये तो शायद उसको आपसे प्यार हैं
  5. अगर आपके थोड़ा सा भी परेशान होने पर वो भी परेशान होता हैं तो वो आपकी केयर करता हैं और हो सकता हैं वो आपसे प्यार करता हो।